The Latest | India | [email protected]

2 subscriber(s)


D
17/05/2023 Dev Prakash Health Views 321 Comments 0 Analytics Video Hindi DMCA Add Favorite Copy Link
वैदिक सभ्यता

वैदिक सभ्यता, जिसे वैदिक काल या वैदिक युग के रूप में भी जाना जाता है, उस प्राचीन सभ्यता को संदर्भित करता है जो भारतीय उपमहाद्वीप में उस समय विकसित हुई जब वेदों की रचना की गई थी। वेद संस्कृत में लिखे गए पवित्र ग्रंथों का संग्रह हैं, और वे हिंदू धर्म की नींव बनाते हैं। माना जाता है कि वैदिक सभ्यता लगभग 1500 ईसा पूर्व से 500 ईसा पूर्व तक अस्तित्व में थी, हालांकि विद्वानों के बीच सटीक तिथियों पर बहस होती है। यह प्राचीन भारत में महत्वपूर्ण सांस्कृतिक और सामाजिक परिवर्तन का काल था। वैदिक काल के दौरान, समाज मुख्य रूप से कृषि प्रधान था, जिसमें लोग कृषि, पशुपालन और व्यापार में संलग्न थे। समाज जनजातियों या कुलों में संगठित था, और उनका मुख्य व्यवसाय पशुपालन था। वैदिक लोग, जिन्हें आर्य कहा जाता है, छोटी बस्तियों या गाँवों में रहते थे जिन्हें ग्राम कहा जाता था। धर्म ने वैदिक समाज में एक केंद्रीय भूमिका निभाई, और वैदिक ग्रंथों में विभिन्न देवताओं की पूजा से संबंधित भजन, प्रार्थना, अनुष्ठान और दार्शनिक चर्चाएँ शामिल हैं। वैदिक देवता प्राकृतिक शक्तियों और घटनाओं से जुड़े थे, जैसे अग्नि (अग्नि), इंद्र (वर्षा और गड़गड़ाहट), वरुण (ब्रह्मांडीय क्रम), और सूर्य (सूर्य)। बलिदान और अनुष्ठान ब्राह्मणों के रूप में जाने जाने वाले पुजारियों द्वारा किए जाते थे, जो समाज में एक प्रमुख स्थान रखते थे। वैदिक काल को दो मुख्य चरणों में बांटा गया है: प्रारंभिक वैदिक काल (1500 ईसा पूर्व से 1000 ईसा पूर्व) और उत्तर वैदिक काल (1000 ईसा पूर्व से 500 ईसा पूर्व)। प्रारंभिक वैदिक काल की विशेषता ऋग्वेद है, जो सबसे पुराना और सबसे महत्वपूर्ण वैदिक पाठ है, जिसमें देवताओं को समर्पित भजन शामिल हैं। बाद के वैदिक काल में, ब्राह्मणों के नाम से जाने जाने वाले नए ग्रंथों की रचना की गई। ये ग्रंथ कर्मकांडों और बलिदानों को करने के लिए विस्तृत विवरण और निर्देश प्रदान करते हैं। उन्होंने वास्तविकता और स्वयं की प्रकृति पर अनुष्ठानिक प्रतीकवाद और दार्शनिक अटकलों की अवधारणा को भी पेश किया। वैदिक सभ्यता ने भी जाति व्यवस्था के विकास की नींव रखी, हालाँकि यह उतनी कठोर नहीं थी जितनी बाद में बनी। समाज को चार मुख्य वर्णों या सामाजिक वर्गों में विभाजित किया गया था: ब्राह्मण (पुजारी और विद्वान), क्षत्रिय (योद्धा और शासक), वैश्य (व्यापारी और किसान), और शूद्र (मजदूर और नौकर)। वर्ण व्यवस्था व्यवसाय और जन्म पर आधारित थी, और इसने सामाजिक संबंधों और जिम्मेदारियों को आकार दिया। व्यापार और वाणिज्य ने वैदिक सभ्यता में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जैसा कि लंबी दूरी के व्यापार और शहरी केंद्रों की उपस्थिति के संदर्भ से स्पष्ट है। वैदिक लोगों का अन्य सभ्यताओं के साथ संपर्क था और वे सांस्कृतिक आदान-प्रदान में लगे हुए थे। अपने धार्मिक और दार्शनिक विचारों, सामाजिक संगठन और सांस्कृतिक प्रथाओं के साथ वैदिक सभ्यता का भारतीय समाज पर गहरा और स्थायी प्रभाव पड़ा है। वैदिक विचारों, रीति-रिवाजों और मान्यताओं के कई तत्व अभी भी समकालीन हिंदू धर्म में प्रचलित हैं, जो इसे दुनिया की सबसे पुरानी जीवित धार्मिक परंपराओं में से एक बनाता है। वैदिक काल ने भारतीय दर्शन, साहित्य और कला के बाद के विकास के लिए नींव भी रखी।

Related articles

 WhatsApp no. else use your mail id to get the otp...!    Please tick to get otp in your mail id...!
 





© mutebreak.com | All Rights Reserved